हिन्दू मंदिरों में घंटी बजाने के वैज्ञानिक फायदे | घंटी क्यों बजाते हैं?

घंटी बजाने के फायदे

मंदिर में जाने से पहले घंटी क्यों बजाते हैं? जानें मंदिर में “घंटी बजाने के फायदे” या लाभ क्या हैं? पूजा करते समय घंटी बजाने का महत्व क्या है?

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार मंदिर में प्रवेश करने से पहले घंटी बजाना बहुत ही शुभ माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से बुरी शक्तियाँ दूर भागती हैं और अच्छी शक्तियां जागृत होती हैं। इसीलिए हिन्दू मंदिरों के प्रवेश द्वार पर घंटी लगाई जाती है।

मंदिर में प्रवेश करने से पहले घंटी बजाने के प्रति यह मान्यता बहुत खास है कि ऐसा करने से मंदिर में स्थित सभी पवित्र शक्तियां जागृत हो जाति हैं और फिर वे हमारी प्रार्थना को सुनकर हमारी मनोकामना पूर्ण करने में जुट जाती हैं।

हिन्दू मंदिरों के प्रवेश द्वार पर घंटी लगाने का यह सब तो धार्मिक कारण है, लेकिन ऐसा करने के पीछे एक बहुत बड़ा वैज्ञानिक कारण भी है जिसे हम सभी को जरुर जानना चाहिए।

मंदिर में घंटी बजाने के फायदे क्या हैं ?

  1. मन मस्तिष्क को शांति प्रदान करना : मंदिर की घंटी का निर्माण एक मिश्र धातु से किया जाता है जिसमें कैडमियम, जिंक, निकेल, क्रोमियम और मैग्नीशियम का मिश्रण होता है। इस मिश्र धातु से निर्मित घंटे की आवाज 7-10 सेकंड्स तक गूंजती है।

यह आवाज हमारे दिमाग में लगभग 7 सेकंड्स तक प्रतिध्वनि करती है। इससे हमरे शरीर के 7 हीलिंग सेंटर (उपचारात्मक केंद्र) खुल जाते हैं। इससे हमारे मन की एकाग्रता बढ़ती है और मस्तिष्क को शांति की अनुभूति होती है। घंटी की आवाज हमारे दिमाग और शरीर को सकारात्मक उर्जा से भर देती है जिसके फलस्वरूप हमें अच्छा महसूस होता है।

2. वैज्ञानिकों की मानें तो मंदिर में घंटी बजाने से वातावरण में एक अलग तरह का कम्पन उत्पन्न होता है। यह कम्पन्न इतना प्रभावी होता है कि इसके कम्पन्न क्षेत्र में आने वाले अधिकांशतः हानिकारक कीटाणु, जीवाणु और शुक्ष्म जीव नष्ट हो जाते हैं। उन विषाणुओं का नष्ट होना हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.