हिन्दू धर्म में तुलसी पूजा क्यों की जाती है | तुलसी पूजा के फायदे

तुलसी पूजा क्यों की जाती है

हिन्दू धर्म में “तुलसी पूजा क्यों की जाती है”?तुलसी की पूजा करने के फायदे” क्या हैं और इसकी पूजा करने का वैज्ञानिक कारण क्या है?

भारतीय संस्कृति में तुलसी के पौधे का महत्व एक माँ की तरह है। साधारण बोलचाल की भाषा में इसे ‘तुलसी’ की जगह ‘तुलसी माँ’ या ‘तुलसी माता’ या फिर ‘तुलसी जी’ बोला जाता है। इस तरह हम देखते है कि हमारी हिन्दू संस्कृति में इस पौधे को बहुत ज्यादा इज्जत और सम्मान प्राप्त है। तुलसी को एक पवित्र पौधा माना गया है।

सनातन संस्कृति या हिन्दू संस्कृति में प्रत्येक हिन्दू परिवार के घर के आंगन में तुलसी का एक पौधा लगाने का प्रावधान है। हिन्दू संस्कृति में तुलसी के पौधे को यह सम्मान बस यूं ही प्राप्त नहीं है, बल्कि इसके पीछे तुलसे के पौधे की महता है। यह सुख-समृद्धि और कल्याण करने वाले पौधे के रूप में मान्य है।

“तुलसी का वैज्ञानिक नाम” या “तुलसी का बोटैनिकल नाम”, “ऑसीमम सैक्टम” है 

तुलसी की पूजा करने के फायदे | तुलसी पूजा क्यों की जाती है?

1.पुरुषों की यौन समस्या सम्बन्धी रोग दूर करना : तुलसी के बीज के नियमित इस्तेमाल से यौन दुर्बलता, नपुंसकता और शारीरिक कमजोरी दूर होती है।

2. स्त्रियों के अनियमित मासिक चक्र को नियमित करना : तुलसी के बीज या तुलसी के पत्तों का नियमित स्तेमाल करके स्त्रियों का अनियमित मासिक चक्र नियमित होता है।

3. कोलेस्ट्रॉल कम करना : तुलसी के नियमित प्रयोग से कोलेस्ट्रॉल का स्तर नियंत्रित रहता है। तुलसी की पत्तियों के सेवन से हमारे शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल का स्तर घटता है और गुड कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है।

4. कैंसर को रोकना : वैज्ञानिकों के मुताबिक तुलसी में रेडियोप्रोटेक्टिव गुण होते हैं। तुलसी के रस के सेवन से पनपने वाले कैंसर सेल्स खत्म हो सकते हैं।

5. सर्दी दूर करना : सर्दी और हल्का बुखार होने पर काली मिर्च और मिस्री के साथ तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर पिने से आराम मिलता है।

6. डायबिटीज दूर करना : तुलसी में एंटी डायबिटिक गुण होता है। टाइप 2 डायबिटीज के केस में भोजन करने से पहले और भोजन करने के बाद तुलसी के पत्तों के सेवन से ब्लड ग्लूकोज का लेवल कम होता है।

7. सांस की दुर्गन्ध दूर करना : तुलसी के कुछ पत्तों को मुंह में लेकर धीरे-धीरे कुछ देर तक चबाने से मुंह की दुर्गन्ध दूर होती है।

8. रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना : तुलसी के इस्तेमाल से हमारे शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता यानि कि इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।

9. दस्त रोकना : तुलसी के पत्तों को जीरे के साथ पीसकर उसे दिन में 4-5 बार चाटते रहने से दस्त रुक जाती है।

10. त्वचा सम्बन्धी विकार दूर करना : तुलसी के इस्तेमाल से किल-मुंहासे ठीक होते हैं और चेहरे की चमक बढ़ जाती है।

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.