Krishna Chutkule | वासुदेव का आठवां पुत्र

Just for only laughing read this Krishna bhagwan ke chutkule in Hindi.

स्कूल में टीचर बच्चों को महाभारत के बारे में बता रहे होते हैं!

टीचर:- “जब कंस ने आकाशवाणी सुनी कि,

उसकी प्रिय बहन देवकी का आठवां पुत्र उसे मार डालेगा,

तब कंस ने देवकी और उसके पति वासुदेव को जेल की काल कोठरी में डाल दिया!

जब देवकी का पहला पुत्र पैदा हुआ तब कंस ने उसे मार डाला …

दूसरा पुत्र जब पैदा हुआ तब कंस ने उसे भी मार डाला …

और इसी तरह कंस ने देवकी के सात पुत्रों को जन्म लेते ही मार डाला ….

लेकिन देवकी के आठवें पुत्र के रूप में स्वयं भगवान बिष्णु,

भगवन श्रीकृष्ण के रूप में अवतार लिए,

और बड़े होकर उन्होंने कंस का वध किया!”

तभी पप्पू जो कि क्लास की सबसे पिछली बेंच पर बैठा होता है,

खड़े होकर टीचर से सवाल करता है,

पप्पू:- “सर, जब कंस को यह पता था कि देवकी का आठवां पुत्र उसे मार डालेगा,

तब उसने देवकी और उसके पति वासुदेव को जेल की एक ही कोठरी में बंद क्यों किया?”

पप्पू का सवाल सुनते ही टीचर ने इस्तीफा दे दिया!


More Krishna Bhagwan ke chutkule in Hindi

 

ज्ञानी बाबा का फालतू ज्ञान

दुनिया के सबसे घातक हथियार यही दोनों हैं

जिनके सामने बड़े से बड़े योद्धा भी हार माँ जाते हैं….

– “बीवी के आंसू” और “पड़ोसन की…


 

परी का वरदान

एक बार एक बुजुर्ग कपल अपनी शादी की चालीसवीं वर्षगांठ मना रहा था.

और संयोग से उसी दिन उन दोनों की आयु 60 वर्ष पूरी हो रही थी.

उन दोनों के बीच इतने प्रगाढ़ प्रेम और स्नेह को देख कर,

उसी रात, आधी रात को एक परी अपने हाथ में जादू की छड़ी लिए प्रकट हुई और बोली….


 

पप्पू और पंडित जी

एक पंडित जी थे जो प्राइमरी क्लास के बच्चों को पढ़ाया करते थे,

एक दिन क्लास में-

पंडित जी – बच्चों, एक बार भगवान श्रीरामचंद्र जी ने समुन्द्र पर पुल बनाने का निर्णय लिया ।

तभी बीच में अपना पप्पू  कुछ कहने के लिए हाथ खड़ा करता है…

Leave a Reply

Your email address will not be published.