जमीन पर बैठकर भोजन करने के फायदे

भारतीय संस्कृति में जमीन पर बैठकर या पलती मारकर भोजन करने को अच्छा माना गया है। ये ऐसे ही नहीं है बल्कि इसके अपने वैज्ञानिक कारण भी हैं।
आजकल हमारा समाज पश्चिमी सभ्यता से प्रभावित होकर टेबल कुर्सी पर बैठकर या फिर बफर सिस्टम में खड़े होकर भोजन करना पसंद करता है। यह भोजन करने का बिलकुल ही गलत तरीका है और गलत तरीके से भोजन करने पर पाचन क्रिया अनियंत्रित होती है।Continue Reading

भोजन करने का तरीका, भोजन करने का सही तरीका

हिन्दू परंपरा में “भोजन करने का तरीका” क्या है? भारतीय संस्कृति में भोजन की शुरुआत में तीखा और अंत में मीठा खाने का क्या कारण है? हिन्दू परंपरा में जब किसी के यहाँ भोज का आयोजन किया जाता है, तब शुरुआत तीखे भोजन से और अंत मीठे भोजन से करायाContinue Reading

सिर पर शिखा रखना

हिन्दू धर्म में सिर पर शिखा, चोटी या चुटिया क्यों रखी जाती है? भारतीय संस्कृति में क्यों महत्वपूर्ण है सिर पर शिखा रखना? वैदिक संस्कृति में सर पर चोटी या शिखा रखने को सम्मानजनक माना गया है। मुंडन या उपनयन संस्कार के समय प्रत्येक हिन्दू को अपने सिर पर चोटी,Continue Reading

हल्दी लगाना, वर वधु को हल्दी लगाना

शादी से पहले दूल्हा दुल्हन को हल्दी क्यों लगाई जाती है? हिन्दू विवाह में क्यों जरुरी है वर-वधु को हल्दी लगाना? हिन्दू परम्परा में विवाह के वक्त वर-वधु दोनों को “हल्दी लगाना” शुभ और अनिवार्य माना गया है। विवाह के कुछ दिन पहले से ही वर और वधु के पुरेContinue Reading

mehadi lagana, mehndi lagane ke fayde

हिन्दू धर्म में लगभग सभी स्त्रियाँ और कुवारी लड़कियां शादी-विवाह, तीज-त्यौवहार या फिर किसी अन्य शुभ अवसर पर अपने हाथों और पैरों में मेंहदी लगती हैं।
भारतीय परम्परा और संस्कृति में सुहागन स्त्रियों द्वारा मेंहदी लगाने को उनके सोलह श्रृंगारों में गिना जाता है। हाथों और पैरों में मेंहदी सिर्फ सुन्दरता बढ़ाने के लिए ही नहीं लगाया जाता है बल्कि इसका अपना धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व भी है….Continue Reading