पायल पहनने के फायदे

पायल पहनने से होते हैं सेहत को ये 4 फायदे

वैज्ञानिक कारण – सोने को पैरो में न धारण करने का यह कारण है, हमारे शरीर के सर का भाग ठंडा होता है, पर हमारे पैर गर्म होते हैं।
सोना एक ऐसा धातू है, जिसमें से गर्म ऊर्जा निकलती है, पर चाँदी से शीतल ऊर्जा निकलती है। इसी कारण से चाँदी को पैरो में पहना जाता है, ताकि वह उसकी शीतलता सर तक पहुँचा सके। और सोने की गर्म ऊर्जा पैरों तक पहुँच सके इसलिए उसे सर पर पहना जाता है।

Posted on:
औरतों का चूड़ी पहनना

सुहागन औरतें इन्हीं 4 कारणों से पहनती हैं चूड़ियाँ

भारतीय संस्कृति के अनुसार शादीशुदा औरतें अपने सुहाग के प्रतिक के रूप में अपनी दोनों हाथों में चूड़ियाँ पहनती हैं। औरतों के सोलह श्रृंगार में चूड़ियों का एक विशेष स्थान और महत्व है।
पहनी जानेवाली चूड़ियाँ कांच की हैं या किसी धातु विशेष की, विज्ञान की नज़रों में इसका भी अपना  अलग अलग महत्व होता है…..

Posted on:
मंगलसूत्र का महत्व

सुहागन स्त्रियां क्यों पहनती हैं मंगलसूत्र | मंगलसूत्र का महत्व

हिन्दू संस्कृति में मंगलसुत्र को शादीशुदा औरतों के सुहाग का प्रतिक माना गया है। एक सुहागन स्त्री की नजर में उसका मंगलसूत्र सभी आभूषणों में सर्वश्रेष्ठ होता है।
मंगलसूत्र को बनाते वक्त पीले धागे में सोने और काले मोतियों को पिरोने के बाद धागे को तीन गांठ देकर बाँधा जाता है। मंगलसूत्र के ये तीन गांठ विवाहित जीवन के तीन मुख्य बातों के प्रतिक स्वरुप होती हैं…

Posted on:
sanskar

Sanskar : जानें हिन्दू धर्म के सभी 16 संस्कार कौन-कौन से हैं?

16 संस्कार क्या हैं और हिन्दू संस्कृति में इन 16 संस्कार के क्या महत्व हैं? यहाँ पर हम इसी बारे में विस्तार से जानेंगे।
महर्षि वेदव्यास के अनुसार गर्भ धारण के पूर्व से और जन्म लेने के बाद मृत्यु तक कुल 16 संस्कार अनिवार्य बतलाए गए हैं। इनमें से प्रत्येक संस्कार का एक नियत समय और नियत उद्देश्य होता है और इन्हें नियत समय पर ही संपन्न किया जाता है…

Posted on: